झांसी मेडिकल कॉलेज के शवगृह में लाशों की सुरक्षा में लगी सेंध

झांसी। विगत दिवस में शवगृह में रखी छात्रा की लाश को चूहों ने कुतर दिया था। जिसके बाद हड़कम्प मचा हुआ है। पोस्टमार्टम गृह में कार्यरत कर्मचारियों का कहना है पुरानी इमारत को शवगृह बनाया गया है जिसकी जिम्मेदारी झांसी मेडिकल कालेज प्रशासन की है और उसकी चाबी भी उन्हीं के पास रहती है। पोस्टमार्टम हाउस से शवगृह कोई भी लेना देना नहीं है।
मालूम हो कि विगत दिवस बीकाॅम की छात्रा प्रिया को पोस्टमार्टम होना था। जिसका शव जब पोस्टमार्टम हाउस पहुंचा तो उसका कान कटा हुआ था। साथ ही पैरों में खरोंच के निशान थे। जबकि पंचनामे में उक्त चोटों के कोई भी निशान नहीं थे। जिस कारण अंदाजा लगाया जा रहा है कि मृतका के कान काटना और खरोंच के निशान बनाना किसी चूहे या फिर नेवले का काम हो सकता है। जब इस मामले में पोस्टमार्टम घर में कार्यरत फार्मस्टिट इंचार्ज से बात की गई तो उन्होंने बताया कि पोस्टमार्टम की पुरानी इमारत को शवगृह बनाया गया है। जिसकी जिम्मेदारी झांसी मेडिकल कालेज प्रशासन की। उसकी चाबी भी उन्हीं के पास रहती है। जिससे रात्रि में यदि किसी की मौत हो जाये तो उस शवगृह में रख सके। शवों की सुरक्षा के लिए ताबूत ओर डी फ्रीजर भी है। इसके बाद भी मेडिकल कालेज प्रशासन लापरवाही करते हुए शवों को खुले मे रख देता है। जिससे इस प्रकार की घटनायें घटित हो जाती है।