नागरिकता संसोधन बिल भारतीय संविधान के लिए है खतरा, बोले-पूर्व केन्द्रीय मंत्री प्रदीप जैन

झांसी। कैब का एक लक्ष्य है आपस में बांटने का। केवल तीन राष्ट्रों को लिया। यदि हमारे मवेशी जाति के लोग नेपाल आयें, अहमदिया जाति के लोग पाकिस्तान से आयें, सिया जाति के लोग पाकिस्तान से आयें, चायना से लोग आयें, तो क्या उनको देश में जगह नहीं मिलेगी।
भाजपा की सरकार में जो काम होता है वह चोरों की तरह आधी रात में 12 बजे होता है। फिर चाहे नोट बंधी हो या जीएसटी लागू करना। सभी काम आधी रात के अंधेरे में हुए है।रात को ही कैब को लगाते है। इन सभी का लक्ष्य एक ही है कि जनता को मुद्दों से किस प्रकार भटकाया जाये। प्याज जैसी जमाखोरी को यह लोग रोक नहीं पा रहे हैं। 100 से 200 रुपए में प्याज बिक रही है। केन्द्र की मोदी सरकार किसी को रोजगार दे नहीं पाई। व्यापार तबाह हो गया है। हमारे सभी सेक्टर नीचे है। जीडीपी 2 से नीचे है। ऐसे में लोगों को ध्यान भटकाने के लिए इस प्रकार के काम किये जा रहे हैं। शिवसेना के लोगों ने इन लोगों को बता दिया कि हिन्दुत्व क्या होता है, राष्ट्रभक्ति क्या होती है। उनको यह जबाब नहीं दे पा रहे हैं। देश को बच्चा-बच्चा जबाब मांग रहा है लेकिन वह जबाब नहीं पा रहे हैं।