अरविन्द केजरीवाल ने तीसरी बार संभाला मुख्यमंत्री का पद

नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद ने सोमवार को तीसरी बार बतौर मुख्यमंत्री अपना कार्यभार संभाल लिया है। इससे पहले उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, गोपाल राय, सतेंद्र जैन और राजेन्द्र पाल गौतम ने भी कार्यभार संभाल लिया है।

दोपहर 12 बजे के करीब दिल्ली सचिवालय में उनके मंत्रिमंडल की पहली कैबिनेट बैठक होगी। आपको बता दें कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपनी मंत्रिमंडल के साथ रविवार को रामलीला मैदान में शपथ ले थी।

सूत्रों के अनुसार, मामूली फेरबदल को छोड़ दें तो बीती सरकार में मंत्रियों के पास जो बड़े विभाग थे वहीं रहेंगे। उसमें कोई बदलाव नहीं होगा। दरअसल, दिल्ली सरकार ने इस बार अपने कैबिनेट में कोई बदलाव नहीं किया है। सभी पुराने मंत्रियों को जगह दी गई है।

सीएम केजरीवाल ने विभागों का किया बंटवारा

दोपहर बाद अरविंद केजरीवाल ने अपने मंत्रियों के विभागों का बंटवारा कर दिया। मुख्यमंत्री केजरीवाल ने अपने पास किसी भी विभाग की जिम्मेदारी नहीं रखी है, जबकि दिल्ली जल बोर्ड का जिम्मा सत्येंद्र जैन को सौंप दिया गया है।

इससे पहले दिल्ली जल बोर्ड की जिम्मेदारी मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के पास थी। गोपाल राय को पर्यावरण मंत्रालय सौंपा गया है, जबकि इससे पहले कैलाश गहलोत के पास यह जिम्मेदारी थी। कुल मिलाकर 3 विभागों में मामूली बदलाव किए गए हैं।

इसी तरह राजेंद्र पाल गौतम को महिला एवं बाल कल्याण विभाग का जिम्मा मिला है, जबकि केजरीवाल के दूसरे कार्यकाल में उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के जिम्मे यह विभाग था। इस 3 अहम बदलाव के अलावा सभी मंत्रियों के पास पुरानी जिम्मेदारी पहले ही जैसी है।

पार्टी की पहली प्राथमिकता अपने 10 वादे वाले गारंटी कार्ड को लागू करना

पार्टी की पहली प्राथमिकता अपने 10 वादे वाले गारंटी कार्ड को लागू करना है। ऐसे में सरकार बड़े विभागों को बदलकर मंत्रियों को उसके कामकाज को समझने में वक्त बेकार नहीं करना चाहेगी। इसलिए वह सभी बड़े विभाग जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य, बिजली, परिवहन, वित्त, लोक निर्माण विभागों को लेकर मंत्रियों को बदलने के मूड में नहीं है।

सूत्र बताते हैं कि मौजूदा कैबिनेट में दो मंत्री गोपाल राय और इमरान हुसैन के पास बीती सरकार में सबसे कम विभाग थे। इमरान हुसैन के पास सिर्फ खाद्य आपूर्ति विभाग बचा था और गोपाल राय के पास श्रम विभाग के अलावा एक और विभाग था। सरकार इन मंत्रियों की जिम्मेदारी थोड़ा बढ़ाकर दूसरे मंत्री जिनके पास काम ज्यादा है उनका बोझ कम कर सकती है। हालांकि, इसपर अंतिम फैसला मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को लेना है। पार्टी का कोई नेता इसपर कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है। मगर वह मानते हैं कि बड़े बदलावों के लिए कोई बड़ा कारण नहीं है।

राजेंद्रपाल गौतम ने कार्यभार संभाला

दिल्ली सरकार में मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने शपथ ग्रहण के बाद कार्यभार संभाल लिया। रविवार को रामलीला मैदान में शपथ लेने के बाद गौतम सचिवालय पहुंचे और उन्होंने कार्यभार संभाला।

राजेंद्र पाल गौतम ने विभागों के बंटवारे के बगैर ही रविवार को सचिवालय पहुंचकर कार्यभार संभाल लिया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मुझे बतौर कैबिनेट मंत्री चुनकर दिल्ली की जनता की सेवा करने का फिर से मौका दिया है।

मैं इसके लिए आभारी हूं। उन्होंने कहा कि वे रुकी हुई योजनाओं पर काम करेंगे और दिल्ली के लोगों के लिए नई योजनाएं भी बनाई जाएंगी। शपथ लेने के बाद वह डॉ. आंबेडकर भवन रानी झांसी रोड पहुंचे और बाबासाहेब भीमराव आंबेडकर को पुष्पांजलि अर्पित की।

इसके बाद बौद्ध विहार मे पुष्पांजलि अर्पित की और पंचकुइयां रोड स्थित महर्षि वाल्मीकि मंदिर पहुंचे। करोल बाग स्थित संत गुरु रविदास मंदिर जाकर रविदास को पुष्पांजलि अर्पित की।