गायब मिला एक्सपायर दवाइयों का रजिस्टर, आयुक्त ने जताई नाराजगी

(रिपोर्ट-सैय्यद तामीर उद्दीन) महोबा । चित्रकूट धाम मण्डल के कमिश्नर शरद कुमार सिंह ने गुरुवार को यहां जिला अस्पताल का निरीक्षण किया है, उन्होंने कहां कि अस्पताल कक्षों से लेकर परिसर तक की सफाई नियमित की जायें आधिकारियों और जिम्मेदारों के निरीक्षण के दौरान उत्तम सफाई की व्यवस्था कराकर किसी भी तरह का काम न करें बेहतर होगा कि इस स्थिति को रोजाना बनाकर रखा जायें। उन्होंने औषधि कक्ष से लेकर एक्सपायर दवाइयों को रजिस्टर तक को देखा है, लेकिन हैरत की बात यह है कि एक्सपायर रजिस्टर मौके पर नहीं मिला जिस पर उन्होंने कड़ी नाराजगी व्यक्त की है, उन्होंने  कहा कि पुनः निरीक्षण में इस तरह की स्थिति फिर सामने आयी तो कार्यवाही होना तय है।
जिले के नोडल अधिकारी व कमिश्नर शरद कुमार सिंह दो दिवसीय जिले के भ्रमण को गुरुवार को महोबा पहुंचे और उन्होंने यहां पहुंचते ही सर्वप्रथम जिला अस्पताल की स्थितियों का निरीक्षण के दौरान जायजा लिया है। गुरुवार को जिला अस्पताल में सफाई की व्यवस्था पूरी तरह से चकाचक मिली, लेकिन इस पर कमिश्नर ने कहां कि इस तरह की सफाई व्यवस्था न सिर्फ निरीक्षण के दौरान वरन रोज रखी जायें।
उन्होंने स्टाफ नर्स रूम निर्माण के बारे में बताया कि इसको लेकर बजट के लिये शासन को पत्र भेजा जायेगा और बजट के आते ही स्टाफ नर्स रूम का निर्माण कार्य शुरू हो जायेगा, औषधि कक्ष का निरीक्षण में दवाइया की व्यवस्था ठीक, ठाक मिली है लेकिन एक्सपायर डेट की दवाइयों के लिये रखा जाने वाला रजिस्टर गायब था इस पर कमिश्नर ने कड़ी नाराजगी का इजहार किया है। उन्होंने चिकित्सकों को के वे जिला अस्पताल में आने वाले मरीजों को किसी भी दशा में बाहर की दवाइया न लिखे, गरीबों के उपचार और उनके दवाइया शासन स्तर पर मुफ्त में दवाइया उपलब्ध करायी जाती है लिहाजा गरीब मरीजों का उसका भरपूर लाभ मिलना चाहिये, कमिश्नर शरद कुमार सिंह ने कहां कि अगर इस तरक की शिकायतें उन तक पहुंची तो कार्यवाही करने में कोई देर नहीं लगेगी। इस मौके पर जिलाधिकारी अवधेश कुमार तिवारी, एडीएम राम सुरेश वर्मा, सीएमओं डा0 सुमन, सीएमएस डा0 आरपी मिश्रा, एसपी स्वामी नाथ, इत्यादि मौजूद रहे।

सृजित पद के अनुसार तैनात होगा स्टाफ
जिला अस्पताल में सृृजित पद के मुताबिक चिकित्सकों और स्टाफ के पद पर तैनाती नहीं है, कमिश्नर शरद कुमार सिंह ने कहा कि इसको लेकर शासन को पत्र लिखा जायेगा और स्वीकृत पद के अनुसार चिकित्सक और स्टाफ की तैनाती होगी उन्होंने कहां कि चिकित्सकों की जिला अस्पताल में कमी होने के कारण मरीजों को इससे भारी दिक्कतों से दो चार होना पड़ता है, लेकिन उपलब्ध स्टाफ के माध्यम से मरीजों को उपचार की पूरी सुविधा मुहैया करायी जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.